Breaking News

इंदौर कलेक्टर के एक ट्वीट को मिले लाखों इन्प्रेशन

महाराष्ट्र में नहीं मिला नाश्ता-पानी, इंदौर ने लुटाया मजदूरों पर प्यार, कलेक्टर के ट्वीट को मिले लाखों इंप्रेशन, देश के सबसे स्वच्छ शहर में मजदूरों को लाड़-प्यार, हमेशा याद करेंगे मजदूर

इंदौर ब्यूरो. महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में फंसे लाखों मजदूरों को मध्य प्रदेश की बार्डर पर छोड़ दिया। इन मजदूरों को पूरे महाराष्ट्र में कहीं भी पानी- खाना-नाश्ता नहीं मिला, लाखों मजदूर पैदल ही महाराष्ट्र से घर की ओर निकल पड़े, लेकिन इंदौर की सीमा में प्रवेश करते ही इन मजदूरों की खातिरदारी शुरू हो गई। बायपास पर ही दो मजदूरों ने मीडिया से कहा था कि महाराष्ट्र में पानी तक नहीं भरने दे रहे थे तो खाना मिलना तो दूर की बात है, इसी बात पर इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने ट्वीट किया था, इसी ट्वीट को अब तक सवा लाख से अधिक इम्प्रेशन मिल चुके हैं। उन्होंने ट्वीट में लिखा था कि इंदौर में मजदूरों की सेवा की जा रही है और यहां उन्हें नाश्ता खाना, दवाई और अन्य वस्तुएं दी जा रही है।
जज भी कर रहे हैं सेवा
इंदौर में भाजपा के कई बड़े नेता, कई जज और आम लोग पूरे तन मन धन से इन मजदूरों की सेवा में लगे हुए हैं। इंदौर के पिगडम्बर, राऊ से लेकर मांगलिया बायपास तक लगभग 20 किमी में सैकड़ों पंडाल लगाए गए, जहां इन मजदूरों को नाश्ता, खाना, जूते चप्पल और घर जाने का इंतजाम होने लगा।
कैलाश- कृष्ण की जोड़ी ने किया कमाल
भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय जैसे जमीनी नेता ने इनके भोजन-पानी का इंतजाम शुरू किया तो फिर सेवा के लिए इंदौर उमड़ पड़ा, तो सांसद और महापौर रहे कृष्णमुरारी मोघे ने इन मजदूरों को बसों से घर भेजने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से कहा। इस पर गंभीरता से विचार भी हुआ और मजदूरों को मुफ्त में उत्तरप्रदेश की बार्डर तक भेजा गया। 25 मार्च से शुरू हुए लॉक डाउन में पूरा देश घर ही बैठा है। सभी उद्योग-धंधे बंद है। ऐसे में उत्तरप्रदेश और बिहार के लाखों मजदूर मुंबई और पूना जैसे शहरों में फंसे रह गए। जैसे-जैसे लॉक डाउन बढ़ता गया, मजदूरों की स्थिति खराब होती गई, क्योंकि काम नहीं तो मालिक ने पैसे भी नहीं दिए, मकान मालिक भी तंग करने लगे। ऐसी स्थिति में मजदूरों को अपने घरों की ओर रवाना होना पड़ा।

Check Also

भ्रष्ट नेताओं और अमेरिकी महिलाओं के नाम पर होते हैं तूफानों के नाम

क्या आपके मन में भी आता है सवाल, कैसे रखे जाते हैं समुद्री तूफानों के …

टिक-टॉक के खिलाफ अमेरिका, बच्चों को परोस रहा है एडल्ट सामग्री

14 अमेरिकी सीनेटर ने की है इस पर कार्यवाही करने की मांगहरीश बरोनिया नईदिल्ली ब्यूरो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *