नर्मदा तटों के हर गांव के घरों में शौचालय का निर्माण हो : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान

द स्पेशल न्यूज़/ इंदौर / महेश्वर  ब्यूरो/ मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान ने कहा है कि नर्मदा तटों पर स्थित गांव के प्रत्येक घरों में ‘शौचालय बनना चाहिए। इस संबंध में उन्होंने अधिकारियों को निर्दे’श देते हुए कहा कि नर्मदा को प्रदूषण एवं गंदगी से बचाने के लिए तटों के सभी गांवों में ‘शौचालय निर्माण की ओर विशेष ध्यान दिया जाए। श्री चैहान खरगोन जिले के महेश्वर में अहिल्या घाट पर नमामि देवि नर्मदे-नर्मदा सेवायात्रा के पहुँचने के बाद जनसंवाद को संबोधित कर रहे थे। इसके पहले मुख्यमंत्री श्री चैहान महेश्वर के जय स्तंभ चैराहे से नर्मदा सेवायात्रा में शामिल हुए। जनसंवाद में केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री थावरचंद गेहलोत, स्कूल ’शिक्षा एवं जिले के प्रभारी मंत्री कुं. विजय ‘शाह, महिला-बाल विकास राज्यमंत्री श्रीमती ललिता यादव, सांसद द्वय श्री सुभाष पटेल एवं श्रीमती सावित्री ठाकुर, विधायक सर्वश्री राजकुमार मेव, बालकृष्ण पाटीदार, हितेंद्रसिंह सोलंकी, पूर्व विधायक श्री भूपेंद्र आर्य, आध्यात्मिक संत श्री भय्यू जी महाराज, साध्वी प्रज्ञा भारती, संतगण सर्वश्री शैलेंद्रगिरी, मौनी बाबा, ओमानंद, ई’वरदास, ज्ञानानंद, मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधनासिंह, फिल्म कलाकार श्री मुकेश तिवारी एवं रघुवीर यादव, गायिका सुश्री अलका याज्ञनिक सहित अनेक विशिष्टजन और जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

श्री चैहान ने पुण्य सलिला नर्मदा को मप्र की जीवन रेखा बताया तथा कहा कि नर्मदा हमे जल देकर विकास का मार्ग प्रशस्त करती है। पवित्र नर्मदा के जल के कारण ही मप्र की कृषि की विकास की दर लगातार 4 साल से 20 % से उपर है। नर्मदा के कारण ही मप्र कृषि और बिजली उत्पादन के मामले में आत्मनिर्भर बन सका है। उन्होंने कहा कि नर्मदा मोक्षदायिनी है। हमने नर्मदा से जल तो लिया लेकिन उसे दिया कुछ नही। नर्मदा नदी में जल बना रहे इसके लिए वृक्षारोपण जरूरी है। श्री चैहान ने नर्मदा भक्तों कोे संकल्प दिलवाया कि नर्मदा के दोनों तट पर वृक्षारोपण कर उसकी देखभाल करे। किसान जो फलदार पौधे लगाएंगे उसमें फल आने तक 3 साल की अवधि के लिए मप्र सरकार 20 हजार रूपए प्रति हेक्टेयर देगी।
मुख्यमंत्री ने बताया कि मां नर्मदा को घरों के सीवेज के जल-मल के प्रदूषण से बचाने के लिए ट्रीटमेंट प्लांट लगाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि नर्मदा को प्रदूषित करने वाली सामग्री नर्मदा में विसर्जित नहीं होने दी जाएगी। प्रत्येक नर्मदा तट पर विसर्जन कुंड बनेंगे । उन्होंने नागरिकों को संकल्प दिलवाया कि नर्मदा जल से ही उसका अभिषेक करे। दीपक आदि पूजन सामग्री नर्मदा में प्रवाहित न करे। घाट पर अंतिम संस्कार के दौरान पार्थिव शरीर को नदी में प्रवाहित नहीं होने दे। श्री चैहान ने कहा कि अंतिम संस्कार के लिए तटों पर मुक्तिधाम भी बनाए जाएंगे। तटों पर ही महिलाओं के लिए चेजिंग रूम की व्यवस्था की जाएगी। आगामी एक अप्रैल से नर्मदा के दोनों तटों पर 5-5 किमी की परीधि में शराब की दुकाने बंद होगी। मप्र को धीरे-धीरे नशामुक्त बनाया जाएगा। उन्होंने ग्रामीणों से अपने गांव को नशामुक्त बनाने का संकल्प लेने का आव्हान किया।

बेटी बचाओं-बेटी पढ़ाओं की बात करते हुए श्री चैहान ने कहा कि सरकारी नौकरी में महिलाओं को प्राथमिकता देने के साथ ही शिक्षक की भर्ती में 50 % और पुलिस में 33 प्रति’शत भर्ती महिलाओं की होगी। उन्होंने ऐसा कानून भी बनाने की बात कही जिसमें बेटी से दुराचार करने वाले अपराधी को फांसी की सजा मिले। श्री चैहान ने कहा कि 12वीं की परीक्षा में 85 % से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थियों की उच्च पढ़ाई कीफीस सरकार भरेगी। मुख्यमंत्री ने उपस्थित नागरिकों को नर्मदा संरक्षण के प्रति जागरूकता लाने का संकल्प दिलवाया।जनसंवाद को श्री सुभाष पटेल, श्री मुकेश तिवारी, संत भय्यू जी महाराज आदि ने भी संबोधित किया।

Check Also

Mosquito can lives in money plant

देश के 91 प्रमुख जलाशयों के जलस्तर में एक प्रतिशत की कमी आई 

  नयी दिल्ली ब्यूरो//4 अक्‍टूबर, 2018 को समाप्‍त सप्‍ताह में देश के  91 प्रमुख जलाशयों में 120.921अरब घन मीटर जल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *