अब नर्मदा का पानी सांवेर सहित कई गांव में, खुलेंगे तरक्की के नए द्वार

@ the special news


सांवेर माईक्रो उद्वहन सिंचाई योजना का शुभारंभ करेंगे मुख्यमंत्री
इंदौर ब्यूरो। इंदौर जिले में सांवेर माईक्रो उद्वहन सिंचाई योजना से तरक्की के नये द्वार खुलेंगे। जिले के सांवेर क्षेत्र में इस योजना से भरपुर पानी उपलब्ध होगा। सिंचाई के लिये किसानों को बड़ी सुविधा होगी। कृषि उत्पादन बढ़ेगा। यह क्षेत्र के लिये बड़ी सौगात होगी।
जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट ने बताया कि इस महत्वाकांक्षी योजना को पूरा करने में लगभग 2400 करोड़ रूपये खर्च होंगे। इससे सांवेर क्षेत्र के लगभग 178 गांवों की एक लाख 58 हजार 147 एकड़ जमीन के लिये सिंचाई सुविधा उपलब्ध होगी।

कम जल में किसान को अधिक सिंचाई का लाभ
मंत्री सिलावट ने बताया कि सांवेर में सिंचाई से वंचित क्षेत्रों तक नर्मदा का जल पहुँचाने का उनका संकल्प साकार होने की दिशा में यह योजना बड़ा कदम है। इसके अंतर्गत नर्मदा पर बने बॉधों की नहरों से स्थान-स्थान पर जल का उद्वहन कर सिंचाई विस्तार किया जा रहा है। यह सिंचाई योजनाएं माइक्रो सिंचाई पर आधारित है। इससे कम जल में किसान को अधिक सिंचाई का लाभ मिलेगा। दूसरा प्रमुख लाभ यह हैं कि ऐसी योजनाएँ उन क्षेत्रों में सिंचाई लाभ पहुँचा रही है, जो उंचाई पर स्थित होने के कारण नहर सिंचाई से वंचित है।
भूमिगत पाइप लाइन आधारित होगी योजना
सांवेर उद्वहन माइक्रो परियोजना की प्रस्तावित लागत 2358.75 करोड रूपये है। इसके क्रियान्वयन से सांवेर विधानसभा क्षेत्र के लगभग 178 ग्रामों की 64 हजार हेक्टेयर (एक लाख 58 हजार 147 एकड) क्षेत्र की भूमि को सिंचित किया जाना प्रस्तावित है। योजना अंतर्गत जल वितरण प्रणाली भूमिगत पाइप लाइन आधारित होगी। किसानों को प्रत्येक 2.5 हेक्टेयर चक तक 23 मीटर दाबयुक्त जल मिलेगा, जिससे किसान अपने खेतों में ड्रिप या स्प्रिंकलर पद्धति से सिंचाई कर सकेंगे। इस पद्धति से सिंचाई मिलने पर किसानों को खेत समतल करने की आवश्यकता नहीं होगी। कमाण्ड क्षेत्र अंतर्गत तालाबों को जल उपलब्ध कराने का प्रावधान भी होगा। पाइप नहरों के लिए स्थाई भू-अर्जन नहीं किया जाएगा। सांवेर विधानसभा क्षेत्र की लगभग दो लाख 62 हजार 226 आबादी इस परियोजना से लाभांवित होगी। इस परियोजना के क्रियान्वयन से सांवेर विधानसभा क्षेत्र के कृषकों की उपज बढ़ाने में महत्वपूर्ण सहायता मिलेगी। क्षेत्र मे फसलें 12 महीने लह-लहाती रहेगी एवं क्षेत्र का विकास होगा तथा कृषक समृद्ध होंगे।
पेयजल एवं औद्योगिक प्रयोजन के लिए भी मिलेगा पानी

इन्दौर जिले के सांवेर क्षेत्र एवं खरगोन, उज्जैन जिलों के लिये नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण की सांवेर माइक्रो उद्धहन सिंचाई परियोजना ऐसी ही एक योजना है। प्रस्तावित सांवेर माइक्रो उद्वहन सिंचाई योजना में नर्मदा का जल उद्वहन कर इंदौर जिले की तहसील सांवेर एवं इंदौर, खरगोन जिले की तहसील बड़वाह एवं उज्जैन जिले की तहसील उज्जैन की कुल 80 हजार हेक्टेयर भूमि में सिंचाई किया जाना है। योजना अंतर्गत कुल 31 क्यूमेक्स (2678.40 एमएलडी) जल ओंकारेश्वर जलाशय से उद्वहन किया जाना प्रस्तावित है। इस योजना से ओंकारेश्वर जलाशय से राइजिंग मेन की 77 किलोमीटर लंबी पाइप लाइन द्वारा जल उद्वहन कर बड़वाह तहसील के ग्राम कालापाठा के समीप एवं इंदौर तहसील के ग्राम सनावदिया, रामगढ़ एवं शिवनी के समीप डिस्ट्रीब्यूट चैम्बर द्वारा चार स्टेज पर पंपिंग स्टेशनों के द्वारा किया जाना है।

Check Also

कोरोना के लिए सरकार के साथ स्कूली छात्रों का जन आंदोलन

प्रदेश भर में जुड़े 18 लाख से अधिक लोग, छात्रों की संख्या भी बढ़ रही …

नवरात्रि 17 से, इस तरह कन्याओं का पूजन कर प्रसन्न करें माताजी को

इंदौर ब्यूरो । 17 अक्टूबर से नवरात्र प्रारंभ होंगे। इसलिए नवरात्र पूजन, आराधना की विधि …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *