मस्तिष्क का बेहतर विकास कैसे होता है संभव !

द स्पेशल न्यूज़// नयी दिल्ली ब्यूरो // विशेषज्ञ के अनुसार बच्चे के मस्तिष्क के विकास के लिए पोषण का विशेष महत्व होता है। हमेशा कई लोगों को यह भ्रम होता है की जन्म के बाद ही बच्चे के मस्तिष्क का विकास होता है मगर यह अधूरा सत्य है। रिसर्च में यह बात साबित हो चुकी है कि गर्भावस्था के दौरान गर्भस्त शिशु को सही पोषण मिले तो उसके मस्तिष्क का विकास होता है। इसलिए गर्भावस्था में माँ को पौष्टिक आहार लेना बेहद जरुरी है।

ध्यान रखें कि पूरे गर्भावस्था में सही पोषण मिलना चाहिए। फिर शिशु जन्म के बाद नवजात शिशु को स्तनपान जरूर कराएं । भारत सरकार के दिशा निर्देशों के अनुसार जन्म के १ घंटे के अंदर माँ का दूध शिशु को पिलाना चाहिए। बाल रोग विशेषज्ञ बताते हैं कि माँ के दूध से बच्चे को पूर्ण पोषण मिल जाता है। और शिशु को ६ महीने तक सिर्फ स्तनपान जरूर कराना चाहिए । सम्पूरक पौष्टिक आहार ६ महीने के बाद ही बच्चे को खिलाना चाहिए औऱ ध्यान रखें बच्चे को २ साल तक माँ का दूध पिलाएं। मस्तिष्क विशेषज्ञ कहते हैं कि बच्चे के सही बौद्धिक विकास के लिए जरुरी है सही पोषण।

Check Also

गुजराती संस्कृति की झलक – रण उत्सव 2021

कच्छ नहीं देखा तो क्या देखा

अनादिकाल से राष्ट्र निर्माण में संतो की भूमिका

रविवार को दत्त जयंती उत्सव में श्रीमती कल्पना झोकरकर का गायन इंदौर।संत अर्थात वह जो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *